ज़िगज़ैग किल्न्सः डिजाइन मैनुअल

October 12, 2017

यह मैन्युअल एफसीबीटीके के रूपान्तरण और उन्हें ज़िगज़ैग में बदलने के लिए महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करने की अपेक्षा रखता है।

दक्षिण एशिया में ईंटों को पकाने के लिए सर्वाधिक व्यापक रूप से इस्तेमाल की जाने वाली तकनीक है, फिक्स्ड चिमनी बुल ट्रेच किलन (एफसीबीटीके)। इसमें एक सतत जलती आग की भट्ठी होती है, जिसमें आग हमेशा जलती रहती है, और एक चिमनी द्वारा बनाए गए ड्राफ्ट के कारण यह हवा के प्रवाह की दिशा में आगे बढ़ता रहता है। भट्ठों के विभिन्न हिस्सों में एक साथ ईंटों को गरम करना पकाना व ठंडा करने का काम किया जाता है।

मूल रूप से संचालन में दो प्रकार के एफसीबीटीके हैंः फोस्र्ड या इन्ड्यूस्ड ड्राफ्ट, और नेचुरल ड्राफ्ट। फोस्र्ड या इन्ड्यूस्ड ड्राफ्ट में, एक पंखा चिमनी से ड्राफ्ट बनाने के लिए लगाया जाता है, जबकि नेचुरल ड्राफ्ट में, चिमनी खुद आवश्यक ड्राफ्ट बनाती है।

 

Download report

16.7 MB

Total Downloads: 694